जबलपुर पुलिस ने किया अंधे कत्ल का पर्दाफाश

September 29, 2020

जबलपुर। थाना तिलवारा क्षेत्र में 26 सितंबर को सुबह पेट्रोल पंप के पास रोड़ के किनारे एक व्यक्ति का शव पड़े होने की सूचना प्राप्‍त हुई। सूचना पर थाना प्रभारी तिलवारा श्री सतीश पटेल अपनी टीम के साथ मौके पर पहुँचे। मौके पर पहुँचकर गड्ढे में भरे पानी में झाड़ियों के बीच एक अज्ञात पुरूष उम्र लगभग 30 वर्ष का शव पड़ा हुआ दिखा।  

      पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा के निर्देश पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री शिवेश सिंह बघेल तथा नगर पुलिस अधीक्षक बरगी श्री रवि सिंह चैहान के मार्गदर्शन में घटना स्‍थल का बारीकी से निरीक्षण किया गया। मृतक के गले, माथे तथा कान के पीछे किसी नुकीली धारदार चीज की चोट होना पायी गयी। अज्ञात मृतक की शिनाख्‍त अरविंद झारिया उम्र 26 वर्ष निवासी आजाद नगद सूपाताल गढ़ा के रूप में हुई। प्रारंभिक पूछताछ में पता चला कि मृतक अरविंद झारिया आटो चलाता था, जो 23 सितंबर को सुबह घर से अपनी मोटर सायकिल से निकला था। शव को पी.एम. के‍ लिए भिजवाते हुये अज्ञात आरोपी के द्वारा हत्या कर साक्ष्य छिपाने के उद्देश्य से शव को छिपाया जाना पाया जाने पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। प्रकरण की विवेचना के दौरान लगातार संदेहियो से पूछताछ की गई, पतासाजी पर ज्ञात हुआ कि मृतक आखिरी बार पवन पटेल के साथ देखा गया था। पवन की तलाश की गयी जो घर पर नहीं मिला पवन के भाई बादल को अभिरक्षा में लेकर सघन पूछताछ की गयी, तो अपने भाई पवन पटेल एवं दोस्त देवीदीन वंशकार के साथ मिलकर अरविंद झारिया पर चाकू से हमला कर गड्ढें के पानी मे ढकेल देना स्वीकार किया। पवन पटेल एवं देवीदीन वंशकार को सरगर्मी से तलाश कर तीनों अरोपियों पवन पटेल पिता विष्णु प्रसाद पटेल उम्र 24 वर्ष निवासी बड़ा पत्थर तिलवारा, बादल पटेल पिता विष्णु प्रसाद पटेल उम्र 19 वर्ष निवासी बड़ा पत्थर तिलवारा तथा देवीदीन वंशकार पिता मुकेश वंशकार उम्र वर्ष 19 निवासी क्रेशर बस्ती को गिरफ्तार किया गया।

      पूछताछ करने पर पता चला कि अरविंद झारिया को रूपयों की आवश्यकता थी अरविंद झारिया ने अपने दोस्त पवन पटेल से से चार हजार रूपये उधार मांगे तो पवन पटेल ने अपने छोटे भाई बादल के दोस्त देवीदीन वंशकार से मोटर सायकिल गिरवी रखकर रूपये दिलवाने का वादा किया था। 23 सितंबर को रात लगभग 10 बजे पवन पटेल ने अरविंद झारिया को फोन कर अपने घर बुलवाया जहाँ घर पर छोटा भाई बादल पटेल था कुछ ही देर बाद देवीदीन वंशकार भी पहुंच गया। सभी लोगों ने एक साथ शराब पी और खाना खाया। शराब पीने और खाना खाते समय अरविंद झारिया ने पवन से आज ही रूपये देने के लिये कहा, तो पवन एवं देवीदीन ने तीन दिन बाद रूपये देने की बात कही जिस पर अरविंद एवं पवन पटेल के बीच वाद विवाद हो गया। खाना कम पड़ जाने पर चारों देवीदीन वंशकार की मोटर सायकिल से तिलवारा जा रहे थे जाते समय रास्ते में पवन और अरविंद झारिया का पुनः विवाद हो गया तो पवन ने देवीदीन से मोटर सायकिल रोकने का कहा देवीदीन ने मोटर सायकिल रोक दी चारों मोटर सायकिल से उतरे तो देवीदीन और बादल ने अरविंद झारिया को पकड़ लिया तथा पवन ने अपने पास रखे चाकू से अरविंद के गले, माथे, कान के पीछे वार कर प्राणघातक चोटें पहुंचा दी जिससे अरविंद झारिया अचेत हो गया। अरविंद झारिया का पर्स एवं मोबाईल जेब से निकाल लिये ताकि कोई पहचान न सके तथा वही पास में झाडियों के बीच गड्ढ़े के पानी में तीनों ने अरविंद झारिया को ढकेल दिया और भाग कर घर पहुंच गये। आरोपियों की निशादेही पर घटना में प्रयुक्त मोटर सायकिल, चाकू, घटना के वक्त पहने हुये खून लगे कपडे, मृतक का पर्स, मोबाईल एवं मोटर सायकिल जप्त किया गया है। आरोपियों को गिरफ्तार करने में थाना प्रभारी तिलवारा श्री सतीश पटेल तथा उनकी पुलिस टीम की सराहनीय भूमिका रही।

Police News Image
jbp
District
Jabalpur